ऐसे प्रयास करें कि तीसरी लहर का प्रदेश में प्रभाव ही न हो


भोपाल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण अब समाप्ति की ओर है। प्रदेश में कोरोना के नए प्रकरण 500 से नीचे आए हैं और 50 जिलों में साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट 2% से नीचे आ गई है। संक्रमण की दृष्टि से देश में प्रदेश का 23वाँ स्थान है। प्रदेश की रिकवरी रेट 98% हो गई है।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि अब ऐसे प्रयास किए जाएँ, जिससे प्रदेश में कोरोना की तीसरी लहर, यदि आती भी है, तो उसका असर हो ही नहीं, अथवा नगण्य हो। कोरोना संक्रमण रोकने का मूल मंत्र है अधिक से अधिक टेस्टिंग। लोगों के पास जा-जाकर टेस्टिंग की जाए और कोरोना के एक-एक मरीज़ की तलाश कर आइसोलेट कर उपचार किया जाए।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि वैक्सीन कोरोना का सुरक्षा कवच है। प्रदेश में कोरोना टीकाकरण का सघन अभियान चलाया जाए। मुख्यमंत्री चौहान मंत्रालय में कोरोना की स्थिति एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान और स्वास्थ्य आयुक्त आकाश त्रिपाठी आदि उपस्थित थे।

नए प्रकरणों की संख्या 500 से कम

प्रदेश में कोरोना के नए प्रकरणों की संख्या 500 से कम हो गई है। आज 453 नए प्रकरण आए और 1329 मरीज स्वस्थ हुए हैं। एक्टिव प्रकरण 7071 हो गए हैं। सात दिनों की पॉजिटिविटी दर 0.8% और आज की पॉजिटिविटी दर 0.6% है।

6 जिलों में 10 से अधिक प्रकरण

प्रदेश के 6 जिलों में ही अब 10 से अधिक कोरोना के नए प्रकरण आए हैं। इंदौर में 144, भोपाल में 104, जबलपुर में 39, उज्जैन में 13, बैतूल में 12 तथा रतलाम में 11 नए प्रकरण आए हैं।

10 जिलों में नया प्रकरण नहीं

प्रदेश के 10 जिलों अलीराजपुर, भिंड, दतिया, डिंडोरी, गुना, हरदा, मंडला, श्योपुर, सिंगरौली और टीकमगढ़ में कोरोना का कोई भी नया प्रकरण नहीं आया है। अलीराजपुर जिला पूर्ण रूप से कोरोना संक्रमण मुक्त है। बुरहानपुर और छतरपुर जिले में कोरोना के एक्टिव प्रकरण सिंगल डिजिट में हैं।

दो जिलों में ही 2% से अधिक साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर

प्रदेश के दो जिले इंदौर एवं भोपाल में ही साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर 2% से अधिक है। इंदौर में साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर 2.1% तथा भोपाल में 2.2% है।

3135 मरीज अस्पतालों में

प्रदेश में कोरोना के 3135 मरीज अस्पतालों में उपचाररत हैं। इनमें से 1315 मरीज आईसीयू में, 1227 मरीज ऑक्सीजन बैड्स पर और 593 मरीज सामान्य बैड्स पर हैं। होम आयसोलेशन में 3936 मरीज हैं।

The Naradmuni Desk

The Naradmuni Desk

The Naradmuni-Credible source of investigative news stories from Central India.